अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर विशेष!

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर विशेष!
8 मार्च 1914↠ महिला अधिकारों को दर्शाता हुआ एक जर्मन पोस्टर 
  यत्र नार्यस्तु पूज्यंते,
रमंते तत्र देवता:

जरूरी है स्त्री का सृष्टि से सामजस्य, क्योंकि केंद्र भी वही है और परिधि भी।।
मानवता की मूर्ति वती तू, भव्य भूषण भंडार। दया क्षमा ममता की आकार विश्व प्रेम का तू आधार।।




अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस दुनिया भर में कैसे मनाया जाता है 

दुनिया के कई देशों में इस दिन राष्ट्रीय अवकाश होता है, स्त्री और पुरुष एक दूसरे को फूलों को देकर इस दिन को सेलिब्रेट करते हैं खास कर यह परंपरा रूस में है।
पड़ोसी देश चीन में काम करने वाली महिलाओं का आधा दिन का अवकाश मिलता है।अमेरिका में मार्च का महीना "विमेंस हिस्ट्री मंथ" के तौर पर मनाया जाता है

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने का आईडिया भी एक महिला का ही है, इस महिला का नाम क्लारा चेटकिन था। सन 1910 में कोपेनहेगन में कामकाजी औरतों की इंटरनेशनल कांफ्रेंस के दौरान अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने का सुझाव दिया गया उस समय कॉन्फ्रेंस में 17 देशों की एक सौ महिलाएं मौजूद थी। उन सभी ने सुझाव का समर्थन किया उसी के बाद से ही अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की प्रक्रिया का आरंभ हुआ।
सबसे पहला अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में मनाया गया था इसके पीछे की भी एक इंटरेस्टिंग कहानी है, दरअसल यह अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस आंदोलन एक प्रकार के रोजगार से ही संबंधित है वर्ष 1960 में जब 15000 औरतों ने न्यू यॉर्क शहर में मार्च निकालकर नौकरी में बेहतर वेतन कम समय और बेहतर रखरखाव की मांग की थी। इसके अलावा उनकी मांग की उन्हें मतदान करने का भी अधिकार दिया जाए। उस समय महिलाओं को अमेरिका जैसे देश में मतदान करने का अधिकार नहीं था उसके कुछ समय बाद सोशलिस्ट पार्टी ऑफ अमेरिका इस दिन को पहला राष्ट्रीय महिला दिवस घोषित कर दिया।

8 मार्च को ही क्यों मनाया जाता है अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस ??
यहां पर मैं एक चीज क्लियर करना चाहूंगा दोस्तों (राष्ट्रीय महिला दिवस यानी कि भारत में 13 फरवरी के दिन मनाया जाता है जोकि सरोजिनी नायडू का बर्थडे है! सरोजिनी नायडू भारत के उत्तर राज्य आज के उत्तर प्रदेश की पहली गवर्नर रही थी)
 तो अब अपने मूल प्रश्न पर पहुंचते हैं कि 8 तारीख को ही क्यों मनाया जाता है अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस,
 दरअसल क्लारा जेटकिंग ने महिला दिवस मनाने के लिए कोई तारीख पक्की नहीं की थी। 1917 में युद्ध के दौरान रूस की महिलाओं ने "पीस एंड ब्रेड" की मांग की महिलाओं की  हड़ताल से वहां के सम्राट निकोलस को पद छोड़ने के लिए मजबूर कर दिया।
और अंतरिम सरकार में महिलाओं को मतदान करने के अधिकार दे दिए गए। 1917 से ही सोवियत संघ ने इस दिन को अवकाश घोषित कर दिया था।
अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष में आइए हम आपको बताते हैं महिलाओं के द्वारा किए गए अविष्कार
डिश वॉशर , अदृश्य  कांच , विंडशील्ड वाइपर,  सफेद संशोधक या व्हाइट  करेक्शन fluid,
fire escape, circular saw blade, चॉकलेट चिप कुकीज,  मोनोपोली गेम, COBOL computer language, coloured flares।

Comments

Popular posts from this blog

इतिहास की सबसे महानतम लड़ाई में से एक 21 सिखों द्वारा 10000 अफगानी ओं के छक्के छुड़ा देने की कहानी

दुनिया का सबसे बड़ा हिंदू मंदिर Angkor wat!

Top 10 educated leaders in india